शनिवार, 12 मार्च 2011

सोच रहा हैं अरुणा शानबाग का बिस्तर


सोच रहा हैं अरुणा शानबाग का बिस्तर


अरुणा
मर तो तुम उस दिन ही गयी थी
जिस दिन एक दरिन्दे ने
तुम्हारा बलात्कार किया था
और तुम्हारे गले को बाँधा था
एक जंजीर से
जो लोग अपने कुत्ते के गले मे नहीं
उसके पट्टे मे बांधते हैं

उस जंजीर ने रोक दिया
तुम्हारे जीवन को वही
उसी पल मे
कैद कर दिया तुम्हारी साँसों को
जो आज भी चल रही हैं

उस जंजीर ने बाँध दिया तुमको एक बिस्तर से
और आज भी ३७ साल से वो बिस्तर ,
मै
तुम्हारा हम सफ़र बना
देख रहा हूँ तुम्हारी जीजिविषा
और सोच रहा हूँ

क्यूँ जीवन ख़तम हो जाने के बाद भी तुम जिन्दा हो ??

तुम जिन्दा हो क्युकी तुमको
रचना हैं एक इतिहास
सबसे लम्बे समय तक
जीवित लाश बन कर
रहने वाली बलात्कार पीड़िता का
उस पीडिता का जिसको
अपनी पीड़ा का कोई
एहसास भी नहीं होता

हो सकता हैं
कल तुम्हारा नाम गिनीस बुक मे
भी आजाये

क्यूँ चल रही हैं सांसे आज भी तुम्हारी
शायद इस लिये क्युकी
रचना हैं एक इतिहास तुम्हे

जहां अधिकार मिले
लोगो को अपनी पीड़ा से मुक्ति पाने का
उस पीड़ा से जो वो महसूस भी नहीं करते



आज लोग कहते हैं
बेचारी बदकिस्मत लड़की के लिये कुछ करो
भूल जाते हैं वो कि
लड़की से वृद्धा का सफ़र
तुमने अपने बिस्तर के साथ
तय कर लिया हैं
काट लिया कहना कुछ ज्यादा बेहतर होता

कुछ लोग जीते जी इतिहास रच जाते हैं
कुछ लोग मर कर इतिहास बनाते हैं
और कुछ लोग जीते जी मार दिये जाते हैं
फिर इतिहास खुद उनसे बनता हैं



एक बिस्तर कि भी पीड़ा होती हैं
कब ख़तम होगी मेरी पीड़ा
अरुणा का बिस्तर सोच रहा हैं
और कामना कर रहा हैं
फिर किसी बिस्तर को 
बनना पडे
किसी बलात्कार पीड़िता
का हमसफ़र



लेकिन
बदकिस्मत एक बलात्कार पीड़िता नहीं होती हैं
बदकिस्मत हैं वो समाज जहां बलात्कार होता हैं

बड़ा बदकिस्मत हैं
ये भारत का समाज
जो बार बार संस्कार कि दुहाई देकर
असंस्कारी ही बना रहता हैं

20 टिप्‍पणियां:

♥ Viviαŋє ♥ ने कहा…

Hello, I visited and I really enjoyed your blog. I'm already a follower. Visit mine too and if you like, follow me please. Thank you.

http://www.vivianeborges.com/

ZEAL ने कहा…

हमारे समाज की दशा अत्यंत ही दुखद और खेदजनक है।

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

samaj ki dukhad sthiti ka hridayshparsi marmik abhivyakti.

संजय भास्कर ने कहा…

truly brilliant..
keep writing..all the best

संजय भास्कर ने कहा…

आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

शालिनी कौशिक ने कहा…

बहुत सुन्दर पंक्तियों के माध्यम से ह्रदय की व्यथा को प्रकट किया है आपने .होली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें

JAGDISH BALI ने कहा…

मार्मिक, झकझोरने वाला व सार्थक

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

Dinesh bhai, bahut gahree baat kah dee aapne,
---------
ब्लॉगवाणी: ब्लॉग समीक्षा का विनम्र प्रयास।

ओम पुरोहित'कागद' ने कहा…

लो भाई
आ गया
आपके ब्लोग पर
आपका आदेश
सिर माथे !
बहुत खूब
बहुत शानदर
बहुत जानदार है
आपका ब्लोग !
बधाई हो !
जय हो आपकी !

ghazalganga ने कहा…

भाई दिनेश जी! आपके ब्लॉग को देखा. आपने तो बहुत ही ज्वलंत मुद्दों पर गंभीरता से कलम चलाई है. इसे व्यंग्य क्यों कह रहे हैं. बहरहाल संपर्क बने रहना चाहिए. मैं आपको फोलो कर रहा हूँ ताकि डेशबोर्ड पर हर पोस्ट की जानकारी मिले. मेरे चार ब्लॉग हैं. gazalganga.blogspot.com, khabarganga.blogspot.com,chauthakhambha-gazalganga.blogspot.com aur ghazalganga-ghazalganga.blogspot.com फुर्सत मिले तो देखें.
----देवेन्द्र गौतम

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति है भाई आपके इस ब्‍लॉग पर.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

dinesh bhai...katu satya ko prakaashit karne ke liye shukriyaa!

Suman ने कहा…

rachna achi lagi aapki,
phir koi aisa vakiya na ho yehi hame pryas karna hai.........

चैतन्य शर्मा ने कहा…

होली की शुभकामनायें...... हैप्पी होली

Patali-The-Village ने कहा…

अति सुन्दर भावपूर्ण रचना|

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

Kailash C Sharma ने कहा…

कुछ लोग जीते जी इतिहास रच जाते हैं
कुछ लोग मर कर इतिहास बनाते हैं
और कुछ लोग जीते जी मार दिये जाते हैं
फिर इतिहास खुद उनसे बनता हैं


बहुत मार्मिक रचना..बहुत सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

Sawai SIingh Rajpurohit ने कहा…

रंग के त्यौहार में
सभी रंगों की हो भरमार
ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

होली की खुब सारी शुभकामनाये........

सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

DreamSeller ने कहा…

Ek dum saty likha hai aapne..aur sabse acha ye ki shabd bhi kathor chune hain...taa ki chot kar sakein dil-dimmag par...

kabhi waqt mile to mere blog pe bhi aayiga aur apni tippni se navaziyega...

http://phattphattphatt.blogspot.com/

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

धन्यवाद दिनेश!..आपका ब्लोग बहुत पसंद आया!...लेखन शैली प्रशंसनीय है!

बेनामी ने कहा…

Thanks for sharing this with us. i found it informative and interesting. Looking forward for more updates..