मंगलवार, 20 सितंबर 2011

“इस्लामी आतंकवाद” की फ़र्ज़ी धारणा

Hindi translation of bestseller "Who Killed Karkare?"
Book:
करकरे के हत्यारे कौन ?
भारत में आतंकवाद का असली चेहरा
एस. एम. मुशरिफ़
by S.M. Mushrif
[Former, IG Police, Maharashtra]
368 pages p/b
Price: Rs 250 / US $15 $20
ISBN-10: 81-7221-038-8
ISBN-13: 978-81-7221-038-0
Year: 2010
Publishers: Pharos Media Publishing Pvt Ltd
368 पन्‍नों की यह पुस्तक भारत में “इस्लामी आतंकवाद” की फ़र्ज़ी धारणा को तोड़ती है।

यह उन शक्‍तियों के बारे में पता लगाती है जिनका महाराष्ट्र ए टी एस के प्रमुख हेमंत करकरे ने पर्दाफ़ाश करने की हिम्मत की और आख़िरकार अपने साहस, और सत्य के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की क़ीमत अपनी जान देकर चुकाई।

एक पुस्तक जो साफ़ तौर पर यह कहती है कि ये “ब्राह्‌मणवादियों” का “ब्राह्‌मणवादी आतंकवाद” है, इस्लामवादियों का “इस्लामी आतंकवाद” नहीं...

See More : http://hbfint.blogspot.com/2011/09/blog-post_689.html

6 टिप्‍पणियां:

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपके पोस्ट पर पहली बार आया एवं बहुत ही अच्छी जानकारी मिली, धन्यलाद ।

Vivek Jain ने कहा…

सुन्दर जानकारी
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

तेजवानी गिरधर ने कहा…

मैं आपकी जितनी तारीफ करुं उतनी कम है, वाकई आप बहुत अच्दे मुद्दों पर काम कर रही हैं

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

जरुरी जानकारी धन्यवाद
आप भी मेरे फेसबुक ब्लाग के मेंबर जरुर बने
mitramadhur@groups.facebook.com

MADHUR VAANI
BINDAAS_BAATEN
MITRA-MADHUR

राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) ने कहा…

आतंकवाद चाहे जिस किसी भी धर्म-शक्ल या विचार का हो....वाकई शर्मनाक है,इसकी भर्त्सना ही की जानी चाहिए

बेनामी ने कहा…

Just wanted to say that you have some awesome content on your website!